Press "Enter" to skip to content

Bhojpuri Shayari

Bhojpuri Shayari! Hi friends, I have collected some new Bhojpuri Shayari. Bhojpuri Shayari has been published. So check the latest Bhojpuri Shayari and share it with your lovely friends. Read it and enjoy it.so you can hare it with your all lovely friends. Its give smile and happiness to everyone face. Laughter is the way to make smile on everyone’ s face. Laughter is the best medicine for our health. Be happy and keep laughing…
Share kro jisse aap baat krte ho or jisse nhi krte…

खालीयो शिशा मे निशान रह जाला
टूटल दिल मे भी अरमान रह जाला
जवन खामोशी से गुजर जाला
उ दरिय़ा भी आपन दिल मे तूफान राखेला !!

ई फूलन मे अब उ महक कहॉ,
इ राह क अब कवनो मंजिल कहॉ..!
क लेती हम मोम अगर केहू पत्थर दिल होत त,
पर इहां त केहू में इंसानी दिल बा कहॉ !!

बीना बतवले उ ना जाने काहे हमसे दूरी क लिहलन,
बिछड. के ऊ हमार मुहबबत अधूरे छोर दिहलन..!
हमरे मुककदर में खाली गम बा त का भइल,
खुदा उनकर खवाइस त पुरा कर दिहलन !!

उजाला आपन याद क हमरे साथ रहे द !
न जाने कवने गली में जिनगी क शाम हो जाइ!!

हर हवा के झोंखा तुफान ना होला.
सब पत्थर भगवान ना होला.
आदमी त बहुत बा दुनिया में लेकिन,
हर आदमी इंसान ना होला

Bhojpuri Shayari

तू रूठ जइबू त हम जीयब कईसे !
फाटल करेजवा के सीयब कईसे !
तूही त हउ हमार सोना के सुराही !
तुही फूट जइबू त पनिया पियब कईसे !!

मत फेंक पत्थर पानी में. ऊ हो केहूँ पीयेला.
मत रह उदास जिन्दगी में, तोहरा के देख के केहू जीयेला.

जिनिगी अब पहाड़ जइसन लागे लगल बा
सुखला में बाढ़ जइसे लागे लगल बा..!
कुछुओ कहाँ बा आपन अब, सब झूठीये के भरम बा
साँसो अब उधार जइसन लागे लगल बा !!

सब तरहे क सिकवा सह लेही ला,
जिनगी य़ेही तरे जी लेही ला..!
मिला लेही लाहाथ जेसे दोस्ती क,
ओइ हाथ से फिर जहरो पीये पड़ेला !!

अईसन परिंदन के कईद कईल हमार फितरत नईखे !
जे हमरा दिल के पिंजरा में रहके भी केहू आउर के संग उड़े क शउख रखे !!

बहुते परेशान बानी तहार नोकरी से ऐ ज़िनगी!
ठीक त ईहे होई कि तू हमारो हिसाब क द !!

उजरल घर में अब केके ढूँढ़त बाड. तु !
बरबाद भईला पर ओकर ठिकाना ना रहेला !!
रूह समाईल बा ई देह में, देह इ जहान में फसल बा!

तनहा रहल त मोहबबत करे वाला क रशम-वफा हवे!
अगर फूल खुशी खातिर होत त केहू जनाजा पर नाही डालत !!

हमके कब चाह रहे कि हमके ऊ चाँद मिले य़ा असमान मिले!
खाली एगो तमन्ना रहे की हमार ऊ सपना के जहाँ मिले !!

मुस्कुरा जे छुपा लेला आपन आंसू !
अपने हालत से ऊ गैरन के भी रुला देला !!

Bhojpuri Shayari

तोहरा के दिलवा में बसइले बानी धड़कन के जईसन, अंखियन में बसइले बानी कजरा के जईसन,
तोहरा के अपना से ज्यादा प्यार कइनी हम, लेकिन तू हमरा के भूल गईलू सपनन के जईसन। जे मतलब खातिर खोजेला हमरा के,
बिना मतलब केहू आवे ता का बात बा, जान लेके ता सब केहू ले जाई दिल हमार, केहू बतियन से ले जावे ता का बात बा।

चोट दिल के एतना गहिर बा केहू से इज़हार का करी, हम खुदहिं निशाना बन गईली केहूके घायल बा करी,
मर गईली हम लेकिन खुलल रहल अँखियाँ, अब एहसे ढेर इंतज़ार केहू के का करी। खतम हो गईल इंतज़ार तोहार,
ला आ गईल संदेशा हमार, न करिहा अब कवनो गिला हमरा से, न कहिया कबहु की नइखे रखिला खयाल तोहार।

दिलवा ई हमार बेक़रार हो रहल बा, लागत बा हमरा के तोहरा से प्यार हो रहल बा,
तू आ जइहा इहवाँ जल्दी से काहें की, तोहार बेसबरी से इंतज़ार हो रहल बा। अपना जान से बढ़के उनका के प्यार करत रहली, याद उनका के दिनों रात करात रहली,
अब ऊ रहियन से जाईल ना जाला हमसे, जहँवा बैठ के उनकर इंतज़ार करत रहली ।

तोहरे इंतज़ार में कैसे कटेला समइया न पूछा हमसे, तोहरे बिना अकेले कैसे रहिला न पूछा हमसे,
तोहरा के ही चाहीं ला अपना दिल के हर कोना में, जिहिले तोहरे बिना कैसे ई न पूछा हमसे,
जे मिल जईबू तू ता केतना होइ ख़ुशी ई न पूछा हमसे। जुबां कह ना सकेला जवान अफसाना दिल के, शायद नजरिया से ऊ

सपनवा में आवेला जब उनकर चेहरा, ता होंठवन पे हरदम दुआ आवेला,
भुला जाईला हम उनकर दिहल हर एक दरदिया के,
जब कबो उनकर ऊ मंद मुस्कान याद आवेला। तोहरा के गले से लगाके तोहार सपनवा बन जाईब,
तोहरा संसिया से मिलके तोहार खुशबू बन जाईब, तनिको दूरी न रहे हमनी के निय

जिंदगी भर हम जिंदगी से दूर रहनी, तहरा खातिर हम अपनों से दूर रहनी।
अब एह से बढ़ के वफा के सजा का होई, तहार होक तोहरो से दूर रहनी।

मत रह उदास जिंदगी में, तोहरा के देख के कोई जियेला।

केतना आसानी से कह देहला तु… की तोहके के भूल जाई, कइसे भूल जाई तोहके,
जबकि तू हमरे हर साँस हर धड़कन में शामाइल बानी, !!✨
कईसे भूल सकेला कोई सांस लेवे, कैईसे रुक सकेला ई दिल के धड़कन, तोहके भूलले से अच्छा बा… ई सांस के भूल जाई।

दरद देके दरद बढ़ावल ना जाला, दीप जलाकर दीप बुझावल ना जाला।
प्रेम केतनो बढ़ी पर बेगाना ना होई, दिल लगाके दिल हटावल ना जाला।

तड़प के देखअ केकरो के चाहत में, तो मालूम होइ की इंतज़ार का होला, !
यूँ ही मिल जाये अगर कोई बिना तड़पे, तो कैसे पता चली की प्यार क्या होला।

हर हवा के झोंखा तुफान ना होला. सब पत्थर भगवान ना होला.
आदमी त बहुत बा दुनिया में लेकिन, हर आदमी इंसान ना होला

सब तरहे क सिकवा सह लेही ला, जिनगी य़ेही तरे जी लेही ला..!
मिला लेही ला हाथ जेसे दोस्ती क,💔 ओइ हाथ से फिर जहरो पीये पड़ेला !!

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *